Breaking

Saturday, 8 December 2018

अम्बेडकर का नाम बदलने को लेकर सियासत तेज

भाजपा सरकार ने संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर का नाम बदल कर डा. भीमराव रामजी आंबेडकर क्या किया, इसे लेकर सियासत तेज हो चली है। विपक्षी दल इसे लेकर भाजपा सरकार पर दलित सियासत का दांव लगाने के आरोप लगाएं हैं, वहीं आंबेडकर महासभा ने इसका स्वागत किया है। असल में आंबेडकर के पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल था। प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक के सुझाव पर यह नाम बदला गया। सबसे तीखी प्रतिक्रिया बसपा सुप्रीमो मायावती की ओर से आयी है। असल में बसपा को लगता है कि नाम में रामजी शब्द जुड़ने से भाजपा इसे भुनाकर सियासी लाभ लेगी। पर, भाजपा की ओर से कहा गया है कि नाम में बदलाव में कुछ भी नया नहीं...

No comments:

Post a Comment