Breaking

Thursday, 6 December 2018

BJP छोड़ने के बाद सावित्री बाई फुले का पीएम मोदी पर हमला, कहा- 'चौकीदार की नाक के नीचे लूटा जा रहा गरीबों का पैसा'


उत्तर प्रदेश के बहराइच लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सांसद सावित्री बाई फुले (Savitri bai Phule) ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि ''चौकीदार की नाक के नीचे गरीबों का पैसा लूटा जा रहा है. भाजपा और आरएसएस समाज को बांटने व संविधान को खत्म करने की कोशिश कर रही है."


सावित्रीबाई फुले ने कहा, "चौकीदार की नाक के नीचे गरीबों का पैसा लूटा जा रहा है. भाजपा और आरएसएस के लोग समाज को बांटने के काम में लगे हैं और बाबा साहेब के लिखे संविधान के साथ छेड़छाड़ कर उसे खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ''विकास पर ध्यान न देकर मूर्तियां बनवाई जा रही हैं और अल्पसंख्यक व अनुसूचित वर्ग को धोखा दिया जा रहा है. इसलिए मैं बाबा साहेब के परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं, लेकिन सांसद बनी रहूंगी."

सावित्री बाई फुले भाजपा के उन दलित सांसदों में शामिल हैं, जो भाजपा व केंद्र और राज्य सरकार पर अनदेखी करने का आरोप लगाती रही हैं. अभी हाल ही में मुख्यमंत्री योगी द्वारा हनुमान को दलित बताए जाने पर उन्होंने भगवान राम पर विवादित टिप्पणी करते हुए कहा था, "राम मनुवादी और शक्तिहीन थे. अगर शक्तिहीन न होते तो अब तक मंदिर बन गया होता. हनुमान दलित थे, इसीलिए उन्हें इंसान से बंदर बना दिया गया और मुंह पर कालिख पोती गई व पूंछ लगा दी गई थी.

फुले ने कहा कि भाजपा समाज में विभाजन पैदा करने का प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि लगातार शहरों और नगरों का नाम बदला जा रहा है. बहुजन समाज एवं अल्पसंख्यकों के इतिहास को मिटाया जा रहा है. फुले ने कहा कि भारत का धन अनावश्यक रूप से मूर्तियां बनाने एवं मंदिरों के निर्माण में खर्च किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि सरकार देश का विकास ना करके हिन्दू-मुसलमान, भारत-पाकिस्तान और मंदिर-मस्जिद का खौफ दिखाकर आपसी भाईचारे को समाप्त करने का काम कर रही है. फुले ने कहा कि भारत का धन लेकर भगोड़े विदेश भाग रहे हैं और भारत सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के मंत्रियों एवं सांसदों द्वारा धार्मिक उन्माद फैलाकर भारतीय संविधान की 

No comments:

Post a Comment