Breaking

Sunday, 9 December 2018

December 09, 2018

महिला आरक्षण कार्ड खेलने की तैयारी में राहुल,

महिला आरक्षण कार्ड खेलने की तैयारी में राहुल, पंजाब समेत कांग्रेस शासित राज्यों को लिखा पत्र

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी की सफलता से उत्साहित कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अब लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखकर एक नई रणनीति अपनाने की तैयारी की है। लोकसभा चुनावों में महिला मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए राहुल ने महिला आरक्षण बिल का मुद्दा गरमाने का निर्णय लिया है। 

कांग्रेस अध्यक्ष ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह समेत अपने दल की सरकार वाले तीनों राज्यों की सरकारों को अपनी-अपनी विधानसभा में इस बिल के समर्थन में प्रस्ताव पारित करते हुए केंद्र सरकार को भेजने के लिए निर्देश दिए हैं। 

कांग्रेस अध्यक्ष ने तीनों राज्यों को लिखे पत्र में कहा है कि केंद्र सरकार से महिला आरक्षण बिल पारित कराने की अपील वाला प्रस्ताव अपनी-अपनी विधानसभा के अगले सत्र में पारित कराया जाए। पत्र में कहा गया है कि यूपीए शासन के दौरान 2010 में राज्यसभा ने इस संबंध में 108वां संविधान संशोधन बिल पारित कर दिया था, लेकिन यह 2014 में 15वीं लोकसभा के भंग होते ही खत्म हो गया था।
white; color: #333333; font-family: "noto sans devanagari" , "calibri"; font-size: 18px;">
राहुल ने पत्र में लिखा है कि कांग्रेस और अन्य दलों ने प्रधानमंत्री को महिला आरक्षण बिल पारित कराने के लिए समर्थन देने का आश्वासन दिया है। बिल के विरोधी महिलाओं की नेतृत्व और बदलाव लाने की क्षमता पर शक जता रहे हैं, लेकिन 73वें व 74वें संविधान संशोधन ऐसे लोगों को गलत साबित कर चुका है। राहुल ने पत्र में लिखा है कि महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव भी 23 नवंबर को इस बारे में अपने दल की सत्ता वाले सभी राज्यों की सरकाराें को पत्र लिख चुकी हैं।

December 09, 2018

मुस्लिम औरत के बुर्के का रंग काला ही क्यों होता हैं ? क्लिक करके जाने जवाब


मुस्लिम औरत के बुर्के का रंग काला ही क्यों होता हैं ? क्लिक करके जाने जवाब

प्रश्न : मानव शरीर में रक्त शुद्ध होता हैं ?

उत्तर : फेफड़ों में

प्रश्न : कॉफी में क्या पाया जाता है ?

उत्तर : कैफ़ीन

प्रश्न : विदेशों के लिए भारतीय राजदूतों को नियुक्त कौन करता है ?

उत्तर : राष्ट्रपति

प्रश्न : पटना उच्च न्यायालय की स्थापना कब हुई थी ?

उत्तर : 1916 में

प्रश्न : ओल्यू गीत कब गाया जाता है ?

उत्तर : किसी की याद में

प्रश्न : किस शासक की मृत्यु पुस्तकालय की सीढ़ियों से गिरने के कारण हुई थी ?

उत्तर : हुमायूँ की





प्रश्न : मुस्लिम औरत के बुर्के का रंग काला ही क्यों होता हैं ?

उत्तर : काला रंग चिंता और प्रतिशोध का प्रतिक माना जाता हैं|एक सभ्य नारी को चिंतन करना चाहिए और किसी भी नारी के साथ गलत होते पर उसका प्रतिशोध भी लेना चाहिए, इसीलिए मुस्लिम धर्म की महिलाओं को सभ्य बनाने के लिए यह प्रथा चलन में आई|

प्रश्न : सूर्य में सर्वाधिक गैस कौन सी है ?

उत्तर : इस सवाल का जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देना है|

दोस्तों, अगर आपको ऐसे नये सवालो की जानकारी सबसे पहले चाहिए तो हमें फॉलो कीजिए और इस आर्टिकल को लाइक और शेयर जरुर कीजिए और आपका कोई भी सुझाव हो तो हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरुर कीजिए|

December 09, 2018

शाहिद अफरीदी के 476 छक्कों का रिकॉर्ड खतरे में है, इस दिग्गज को सिर्फ 1 छक्के की जरूरत



विश्व क्रिकेट में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड अगर किसी के नाम है. तो वह फिलहाल शाहिद अफरीदी है. लेकिन शाहिद अफरीदी का यह रिकॉर्ड भी अब ज्यादा दिनों तक टिका नहीं रहेगा.

             

वो कहते हैं ना रिकॉर्ड तो बनते ही टूटने के लिए हैं. क्योंकि दुनिया का एक खतरनाक बल्लेबाज है. जो इस रिकॉर्ड को अपने नाम करने की काबिलियत रखता है.

शाहिद अफरीदी

शाहिद अफरीदी ने 524 मैच में 11196 रन बनाए हैं इस दौरान उन्होंने 1053 चौके और 476 छक्के लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है

क्रिस गेल को 1 छक्के की जरूरत, सर्वाधिक छक्के लगाने वाले टॉप-10 बल्लेबाज


विश्व क्रिकेट में क्रिस गेल ने 443 मैच में 8548 रन बनाए हैं। और इस दौरान उन्होंने 2256 चौके और 476 छक्के लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। वैसे देखा जाए तो क्रिस गेल ने 443 मैच में 476 छक्के लगाए हैं। जबकि पाकिस्तान के शाहिद अफरीदी ने 524 मैच में 476 छक्के लगाए हैं। देखा जाए तो क्रिस गेल शाहिद अफरीदी से आगे निकल गए हैं। लेकिन फिर भी छक्कों के मामले में शाहिद अफरीदी को पीछे छोड़ने के लिए क्रिस गेल को सिर्फ 1 छक्के की जरूरत है।

रोहित शर्मा

रोहित शर्मा ने भी अपने क्रिकेट करियर में 310 मैच में 11140 रन बनाए हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 28 शतक 61 अर्धशतक 999 चौके और 327 छक्के लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है। टॉप-10 की सूची में वह सातवें स्थान पर मौजूद है।

आपके अनुसार क्या रोहित शर्मा शाहिद अफरीदी के रिकॉर्ड को अपने नाम कर पाएंगे। आप अपनी राय कमेंट सेक्शन में दें।


December 09, 2018

चुनाव के नतीजों से पहले ही बीजेपी का ऐलान: तेलंगाना में हमारे बिना सरकार नहीं, हम होंगे सत्ता में शामिल

नई दिल्ली: 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों के परिणाम आने में महज अब दो दिन दूर हैं, मगर एग्जिट पोल के नतीजों से ने ये संकेत दे दिये हैं कि किस राज्य में किसकी सरकार बन सकती है. तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए जारी एग्जिट पोल के नतीजे न तो बीजेपी के लिए अच्छे हैं और न ही कांग्रेस के लिए. क्योंकि एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स में भी ऐसे संकेत हैं कि केसीआर यानी के चंद्रशेखर राव की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) एक बार फिर से सत्ता में वापसी कर सकती है. मगर जिस तरह से बीजेपी दावा कर रही है, उससे अब यह सवाल उठने लगे हैं कि क्या बीजेपी तेलंगाना के सत्ता में आएगी?

" style="-webkit-tap-highlight-color: transparent; box-sizing: border-box; color: #333333; font-family: -apple-system, Arial, Helvetica; font-size: 26px; line-height: 1.36; margin: 0px 0px 15px; outline-offset: 0px; outline: none; text-rendering: optimizeLegibility;"> वोटर लिस्ट से नाम गायब होने पर भड़कीं ज्वाला गुट्टा तो चुनाव अधिकारी ने दिया यह जवाब दरअसल, तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष के लक्ष्मण ने संकेत दिए हैं कि अगर राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलते हैं तो ऐसी स्थिति में बीजेपी सरकार का हिस्सा हो सकती है. मतलब इशारा साफ है कि बीजेपी गठबंधन कर सत्ता में किसी तरह आने की कोशिश करेगी. बता दें कि तेलंगाना में इससे पहले टीआरएस की सरकार थी और केसीआर मुख्यमंत्री थे. 

Exit Polls: कांग्रेस राजस्थान में किसे बनाएगी मुख्यमंत्री, MP और छत्तीसगढ़ में बुरी तरह फंसी बीजेपी, 10 बातें

तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि 'तेलंगाना में बीजेपी के बिना सरकार नहीं बन सकती. अगर किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलते हैं, तो ऐसी स्थिति में बीजेपी सरकार का हिस्सा होगी. हम कांग्रेस या एआईएमआईएम को समर्थन नहीं देंगे, मगर अन्य विकल्प खुले हुए हैं. अपने हाई कमांड से चर्चा करने के बाद निर्णय लिया जाएगा.' बता दें कि राज्य में चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे और उसके बाद ही तस्वीर स्पष्ट होगी कि वहां किसकी सरकार बनेगी. 

Saturday, 8 December 2018

December 08, 2018

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के रिजल्ट

बीजेपी ने Exit Poll को किया खारिज, बढ़त से गदगद हुई कांग्रेस, कहा-11 को मौसम बदलने वाला है

नई दिल्ली: पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के रिजल्ट से पहले आए एग्जिट पोल ने बीजेपी की नींद उड़ा रखी है. मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को झटका लगता दिख रहा है. लेकिन एग्जिट पोल के नतीजे आने के बाद कांग्रेस गदगद है. कांग्रेस ने कहा है कि आने वाले 11 तारीख को मौसम बदलने वाला है.

आज कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने एग्जिट पोल के नतीजे आने के बाद रॉबर्ट वाड्रा की कंपनियों से जुड़े लोगों के ठिकानों पर ED के छापे को लेकर निशाना साधा. उन्होंने कहा,'' अधिकारियों को समझना चाहिए समय बदलता है, मौसम बदलता है. 11 को मौसम बदलने वाला है और फिर अगले साल बदलने वाला है.''
यहां आपको बता दें कि तीन हिंदी भाषी प्रदेशों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को झटका लगता दिख रहा है. एबीपी न्यूज़ के एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश और राजस्थान की सत्ता बीजेपी के हाथों से निकल सकती है. कांग्रेस एग्जिट पोल के नतीजों से गदगद है, तो वहीं सत्तारूढ़ बीजेपी ने इसे खारिज करते हुए कहा है कि 11 दिसंबर के एक्जैक्ट नतीजों का इंतजार कीजिए.
केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ''मैं अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दूंगा, क्योंकि एक्जैक्ट नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे. हमें नतीजों का इंतजार करना चाहिए. कई बार ऐसा हुआ है जब एग्जिट पोल के नतीजे पलट गए हैं.''
वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एग्जिट पोल के नतीजों पर कहा, ''मैं सबसे बड़ा सर्वेयर हूं, जनता के बीच रहता हूं और हम सूबे में पूर्ण बहुमत से बीजेपी की सरकार बनाएंगे.'' राज्य मंत्री संजय पाठक ने भी सर्वे के दावों के विपरीत सरकार बनाने का किया दावा किया. उन्होंने कहा कि हम 135 से 140 सीट जीतेंगे.
राजनीतिक वनवास झेल रही कांग्रेस एग्जिट पोल के नतीजों से खुश है. मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस पार्टी सूबे में 140 से अधिक सीटें जीतेगी. सभी सर्वे इसकी पुष्टि करते हैं.

राजस्थान में एक्जिट पोल के नतीजों से खुश कांग्रेस, सीएम पद पर अभी भी चुप्पी


राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पालयट ने भी एक्जिट पोल को सही ठहराते हुए कहा कि यह बहुत आसानी से दिख रहा है कि बीजेपी इन सभी पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों में बैकफुट पर है और कांग्रेस एक विकल्प दे रही है जिसका ज्यादातर लोग समर्थक कर रहे हैं. इन एग्जिट पोल से यही निष्कर्ष निकल रहे हैं.
आपको बता दें कि मध्य प्रदेश की सभी 230 विधानसभा सीटों पर 28 नवंबर को वोट डाले गए थे. वहीं राजस्थान में 199 सीटों पर कल वोटिंग हुई थी. अब सभी को 11 दिसंबर का इंतजार है, जब चुनाव परिणामों की घोषणा की जाएगी.
हालांकि सर्वे ने दोनों ही राज्यों में परिवर्तन के संकेत दिये हैं. मध्य प्रदेश में एबीपी न्यूज लोकनीति सीएसडीएस एग्जिट पोल के मुताबिक, कांग्रेस 126 सीटों पर जीत दर्ज कर बहुमत हासिल कर सकती है. बीजेपी को यहां 94 सीटें मिलने के आसार हैं. बाकी के बचे 10 सीट अन्य के खाते में जाने की उम्मीद है.

Poll Of Exit Polls: छत्तीसगढ़, MP में कांग्रेस और BJP में कांटे की टक्कर, राजस्थान में वसुंधरा को झटका


राजस्थान की बात करें तो यहां बीजेपी के हाथों से सत्ता जाती हुई दिखाई दे रही है. एबीपी न्यूज़ लोकनीति सीएसडीएस के एग्जिट पोल के मुताबिक, सूबे में कांग्रेस को 101 सीटें मिलने की संभावना है जबकि बीजेपी के खाते में 83 सीटें जा सकती है. अन्य के खाते में 15 सीट जाने का अनुमान है.


December 08, 2018

अम्बेडकर का नाम बदलने को लेकर सियासत तेज

भाजपा सरकार ने संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर का नाम बदल कर डा. भीमराव रामजी आंबेडकर क्या किया, इसे लेकर सियासत तेज हो चली है। विपक्षी दल इसे लेकर भाजपा सरकार पर दलित सियासत का दांव लगाने के आरोप लगाएं हैं, वहीं आंबेडकर महासभा ने इसका स्वागत किया है। असल में आंबेडकर के पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल था। प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक के सुझाव पर यह नाम बदला गया। सबसे तीखी प्रतिक्रिया बसपा सुप्रीमो मायावती की ओर से आयी है। असल में बसपा को लगता है कि नाम में रामजी शब्द जुड़ने से भाजपा इसे भुनाकर सियासी लाभ लेगी। पर, भाजपा की ओर से कहा गया है कि नाम में बदलाव में कुछ भी नया नहीं...
December 08, 2018

CTET की परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न-उत्तर, भाग-81


CTET की परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न-उत्तर, भाग-81

नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप मुझे उम्मीद है की अच्छे ही होंगे | अगर आपको हमारी न्यूज़ अच्छी लगे प्लीज़ हमे लाइक और फॉलो जरूर करे |

01. जब मोर सांप को खाता है सांप कीड़ों को खाता है और कीड़े हरे पौधों को खाता है तो मोर का पोषण तल है ?

उत्तर- खाद्य पिरामिड के शीर्ष पर

02. श्रृंगार रस का स्थाई भाव है ?


उत्तर- रति

03. भूकंप की तीव्रता मापने के यंत्र को क्या कहते हैं ?

उत्तर- सिस्मोग्राफ


04. यथाशक्ति में समास है ?

उत्तर- अव्ययीभाव


05. भूषण किस काल के कवि हैं ?

उत्तर- रीतिकाल

06. दही निर्माण हेतु कौन सूक्ष्म जीवी उत्तरदाई है ?

उत्तर- लैकटोबैसिलस



07. किस विधि का उपयोग स्मृति के मापन के लिए नहीं किया जाता है ?

उत्तर- तार्किक विधि

दोस्तों अगर हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो इसे लाइक करे दोस्तों के साथ शेयर करे अगर आपका कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट करके बताए. ऐसे ही शिक्षा से जुडी जानकारी को प्राप्त करने के लिए हमें फोलो करना ना भूले.