Breaking

Saturday, 15 December 2018

December 15, 2018

आधार कार्ड को लेकर सुप्रीम कोर्ट का नया फैसला, आज की बड़ी खबर



आप सभी को पता होगा कि आधार कार्ड को लेकर काफी महीनों से बहस चल रही थी. आपकी जानकारी के लिए बता सकते हैं कि तकरीबन 4 महीने से हाई कोर्ट में आधार कार्ड का मुद्दा चल रहा था. जिसके बाद आज चार महीने बाद सुप्रीम कोर्ट की तरफ से आधार कार्ड को लेकर एक बड़ा फैसला आया है.

ऐसे में अगर आपके पास आधार कार्ड है इस खबर को आखिर तक ज़रूर पढ़ें.

सोशल मीडिया पर अधिकतर यहां सुनने को मिल रहा था कि आधार कार्ड को बंद नहीं करना चाहिए क्योंकि आधार कार्ड बंद करने से पैन कार्ड द्वारा बैंकों में होने वाली धोखाधड़ी का विवरण नहीं मिल पाएगा. इसी बीच आधार कार्ड को लेकर सुप्रीम कोर्ट का आज फैसला आया है तो चलिए विस्तार में जानते हैं.


दोस्तो आपको जानकर खुशी होगी कि बैंक खाता खुलवाने के लिए आधार कार्ड को अब जरूरी नहीं माना जाएगा जिसके तहत अगर आप को बैंक खाता खुलवाना है. तो आप बिना आधार कार्ड के भी खुलवा सकते हैं.

जानकारीअच्छी लगी तो चैनल को फॉलो करें.

December 15, 2018

રેલવેમાં ભર્તી થવા જો તમે પરીક્ષા આપી હોય તો આ સમાચાર વાંચીને થઈ જશો ખુશ

રેલવેમાં ભર્તી થવા જો તમે પરીક્ષા આપી હોય તો આ સમાચાર વાંચીને થઈ જશો ખુશ

જો તમે રેલવેમાં  આસિસ્ટેન્ટ લોકો પાયલોટ અને ટેક્નીશિયનની ભર્તી માટે બહાર પડેલી 64000ની ખાલી જગ્યા માટે પરીક્ષા આપી હોય તો તમારા માટે સારા સમાચાર એ છે કે રેલવે રિક્રૂટમેન્ટ બોર્ડ  Railway Recruitment Board (RRB) દ્વારા પરીક્ષાર્થીઓએ ભરેલી ફીને પરત આપવાની પ્રક્રિયા હાથ ધરવામાં આવી છે. અરજી કર્તાઓએ જમા કરાવેલી ફીને પરત કરવાનું શરૂ કરાતાં હવે તમને ટૂંક સમયમાં જ તે પૈસા પાછા મળી જશે. રેલવે દ્વારા એ લોકોને ફી પરત કરવામાં આવી રહી છે જે લોકો પહેલાં ચરણની પરીક્ષા માટે કમ્યૂટર બેઝ ટેસ્ટ(CBT)માં બેઠાં હતા.

આ મામલે રેલવે રિક્રૂટમેન્ટ બોર્ડ તરફથી નોટિફિકેશન ઈશ્યૂ કરવામાં  આવ્યું છે. જેમાં જણાવાયું છે કે રેલવે દ્વારા આ ભરતી માટેના પ્રથમ ચરણની પરીક્ષાના પરિણામ આગામી 200 ડિસેમ્બર સુધીમાં જાહેર કરી દેવામાં આવશે. સાથોસાથ એમ પણ તેમાં કહેવાયું છે કે કેટલાંક અરજીકર્તાઓએ ફોર્મમાં પોતાના બેન્ક ખાતાની ખોટી જાણકારી આપી હતી, જેના કારણે રિફંડ પ્રોસેસ ફેલ થઈ રહી છે.

જો તમે તમારી બેંક ડીટેઈલ સાચી ન આપી હોય તો તમને રેલવે બોર્ડ તરફથી આગામી 17 ડિસેમ્બર સુધી SMS થકી જાણ કરવામાં આવશે. તમને બેંક વિશે યોગ્ય જાણકારી આપવાની તક આપવામાં આવશે.


આટલી રકમ અપાશે પરત
રેલવેના ગ્રુપ સીના પદો પર અરજી કરનાર ઉમેદવારોએ ઓનલાઇન માધ્યમથી ચૂકવણી કરવામાં આવી રહી છે.  આ હોદ્દા માટે બિન અનામત અને ઓબીસી વર્ગના ઉમેદવારોથી 500 રૂપિયા ફી પેટે લેવામાં આવ્યા હતા. જ્યારે એસસી/એસટી માટે 250 રૂપિયા ફી લેવાયી હતી. ઉમેદવારોના વિરોધને જોતા રેલવે બોર્ડે કહ્યું કે, સામાન્ય અને ઓબીસી વર્ગના ઉમેદવારોને 400 રૂપિયા પરત આપવામાં આવશે. તો એસસી/એસટીને 250 રૂપિયા પરત આપવામાં આવશે. આ રકમ ઉમેદવારોના ખાતામાં જમા કરાવવામાં આવશે.

શા માટે પરત આપવામાં આવી રહી છે ફી
રેલવે બોર્ડ દ્વારા આસિસ્ટન્ટ લોકો પાયલોટ અને ટેક્નીશિયન પદોની પરીક્ષા ફીને લઈને ઉગ્ર વિરોધ કરવામાં આવ્યો હતો. વધારાયેલી ફીને પરત કરવામાં આવે તેવી માંગણી ઉઠી હતી. જેનને પગલે રેલવે બોર્ડ સત્તાવાળાઓએ ફી પરત આપવાનો નિર્ણય કર્યો હતો. . રેલવે રિક્રૂટમેન્ટ બોર્ડ તરફથી જાહેર કરવામાં આવ્યું હતું કે, પરીક્ષામાં ભાગ લેનારા ઉમેદવારોને જ વધારાની ફી પરત આપવામાં આવશે.


Friday, 14 December 2018

December 14, 2018

क्या मायावती को घेरने की तैयारी कर रही बीजेपी?

बीएसपी प्रमुख मायावती को उनके गढ़ में ही घेरा जा रहा है. एक तरफ मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में कांग्रेस के साथ समझौते को लेकर तस्वीर साफ नहीं हो पा रही है तो अब उत्तर प्रदेश में नए समीकरण बनते दिख रहे हैं. पिछले साल सहारनपुर में हुई हिंसा के आरोपी और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून एनएसए के तहत जेल में बंद भीम सेना के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण की समय से पहले रिहाई इसी की ओर इशारा कर रही है. चंद्रशेखर की रिहाई कल देर रात की गई. यूपी सरकार की ओर से कहा गया कि उनकी मां की अपील के बाद यह फैसला किया गया. लेकिन हकीकत यह भी है कि लंबे समय से उनकी रिहाई की मांग की जा रही थी. इसके लिए कई दलित संगठन सक्रिय थे. वैसे तो इसे बीजेपी का सियासी दांव माना जा रहा है. पर रिहाई के बाद चंद्रशेखर ने कहा कि 2019 में बीजेपी को जड़ से उखाड़ फेंक दिया जाएगा.
चंद्रशेखर की रिहाई के कई सियासी पहलू हैं. सबसे बड़ा तो मायावती से जुड़ा है. पिछले साल सहारनपुर में राजपूत-दलितों के संघर्ष के बाद भीम सेना सुर्खियो में आई. इस इलाके की बड़ी दलित आबादी पारंपरिक रूप से बीएसपी की समर्थक रही है. लेकिन भीम सेना के उदय के साथ ही चंद्रशेखर तेज़ी से बीएसपी के कोर वोट बैंक यानी जाटवों में मशहूर हो गए. अपना जनाधार खिसकता देख मायावती भी सक्रिय हुईं और उन्होंने सहारनपुर का दौरा भी किया था. वहां यह कहने से नहीं चूकीं कि किसी संगठन के बजाए बीएसपी के झंडे तले कार्यक्रम करना चाहिए ताकि उसे रोकने की किसी की हिम्मत न हो. जाहिर है, मायावती को भीम सेना की बढ़ती ताकत का एहसास हुआ. दिल्ली के जंतर मंतर पर भीम सेना की ताकत को देखकर भी कई राजनीतिक दल चौकन्ने हो चुके हैं. मायावती भीम सेना को बीजेपी-आरएसएस की साजिश बताने से भी नहीं चूकीं.



खोजें...


ताज़ातरीन


Trending Tags

December 14, 2018

धरती के 3000 फुट नीचे बसे इस गांव के बारे में नहीं जानते होंगे आप, तस्वीरें देख हो जाएंगे हैरान



 एक गहरी खाई में उपस्थित इस प्राचीन गांव की आबादी भी बहुत कम है।

नई दिल्ली। दुनिया में ऐसी कई सारी जगहें हैं जिनके बारे में हम में से ज्यादातर लोगों को आज भी नहीं पता है। एक ऐसे ही जगह के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जो धरती के नीचे बसी हुई है यानि कि इसे अगर अंडरग्राउंड विलेज कहा जाए तो गलत नहीं होगा। अब तक आपने अंडरग्राउंड रूम, गैरेज, होटल्स के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन कोई ऐसा गांव भी मौजूद है इसके बारे में शायद ही हम में से अधिकतर लोगों को पता हो।

हम यहां बात कर रहे हैं सुपाई नामक गांव की जो अमरीका के प्रसिद्ध ग्रैंड कैनियन के पास हवासू कैनियन में स्थित है। जमीन की सतह से तीन हजार फुट नीचे इस गांव की बात ही कुछ और है।

हवासू कैनियन के पास एक गहरी खाई में उपस्थित इस प्राचीन गांव की आबादी भी बहुत कम है। मात्र 208 लोग इस स्थान पर रहकर गुजर-बसर करते हैं।


यहां पर अमरीका के मूल निवासी रेड इंडियन्स ही रहते हैं।

यहां के निवासियों का आधुनिकता से कोई संबंध नहीं है। इनकी अपनी अलग दुनिया है जहां ये खुशी-खुशी रहते हैं।

जिन्हें एडवेंचर का शौक है उनके लिए यह जगह किसी जन्नत से कम नहीं है। इसी शौक के चलते हर साल लगभग 55 लाख लोग एरिजोना आते हैं। हालांकि यहां आवागमन के साधन बहुत सीमित है। यहां या तो पैदल चलना होगा या फिर खच्‍चर की सवारी करते हैं लोग।

गांव में पहुंचते ही सैलानियों को ऐसा लगता है कि वो किसी अलग दुनिया में आ गए हैं।